Warning to coaching center operators, follow the Kovid protocol, otherwise it will be strictly

कोचिंग सेंटर संचालकों को चेतावनी, कोविड प्रोटोकॉल की पालना करें, नहीं तो होगी सख्ती

जयपुर

जयपुर जिला कलक्टर अन्तर सिंह नेहरा ने शहर के सभी कोचिंग सेंटर्स संचालकों को निर्देश दिया है कि वे कोचिंग आने वाले विद्यार्थियों के प्रवेश एवं निकास पर उनके द्वारा मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग, सहित सभी कोविड प्रोटोकॉल एवं इस सम्बन्ध में समय-समय पर जारी दिशा निर्देशों की पूरी पालना सुनिश्चत कराएं। समय-समय पर जिला प्रशासन द्वारा इसकी जांच की जाएगी और पालना नहीं होने एवं किसी संस्थान में कोविड संक्रमण की स्थिति मिलने पर उसे बंद कराने जैसे कदम उठाए जा सकते हैं।

नेहरा मंगलवार को जिला कलक्टे्रट सभागार में कोचिंग सेंटर संचालकों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों की कोविड से सुरक्षा एवं शहर में कोविड 19 संक्रमण की स्थिति के प्रबन्धन के लिए आवश्यक है कि कोचिंग सेंटर्स में आने वाले सभी विद्यार्थी मास्क पहनें, उनके बैठने की व्यवस्था दूर-दूर की जाए। कोचिंग सेंटर्स के बाहर 200 मीटर तक ध्यान रखा जाए कि वे थड़ी-ठेलों पर बिना मास्क पहने समूह बनाकर इकट्ठा नहीं हों।

कोचिंग सेंटर में कमरों की बैठक क्षमता से 50 प्रतिशत विद्यार्थी ही बुलाए जाने चाहिए। अन्य के लिए ऑनलाइन मॉड्यूल या शिक्षण सामग्री से शिक्षण की व्यवस्था की जा सकती है। हर बैच के प्रारम्भ होने से पहले कक्षा को सेनेटाइज किया जाए। रजिस्ट्रेशन काउण्टर भी पर्याप्त संख्या में लगाए जाएं। किसी विद्यार्थी को बुखार या ऐसे ही अन्य लक्षण हैं तो उसे कोचिंग सेंटर न बुलाएं। कैरियर के लिए उसकी पढ़ाई की कमी को बाद में एक्स्ट्रा क्लास, स्टडी मैटेरियल से पूरा करें ताकि उसे एक मानसिक संबल मिल सके।

नेहरा ने कि कहा कि गोपालपुरा मोड़ रोड पर अनेक कोचिंग सेंटर्स के बाहर विद्यार्थी बिना मास्क एवं समूह में नजर आते हैं जो ठीक नहीं है, अगर दो-तीन दिन में स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो कठोर कदम उठाने पड़ेेंगे, पुलिस, नगर निगम, इंसीडेंट कमाण्डर्स और अन्य अधिकारियों को इसके लिए निर्देशित कर दिया गया है।

कोचिंग सेंटर्स द्वारा आयोजित की जाने वाली सेमीनार्स में कोविड प्रोटोकॉल की पालना का ध्यान विशेषकर रखा जाए क्योंकि इसमें दूर-दूर से विद्यार्थी मार्गदर्शन के लिए आते हैं। अगर कोविड प्रोटोकॉल की पालना या ‘एप्रोप्रिएट कोविड बिहेवियर ‘ में किसी भी प्रकार की कमी पाई जाएगी तो इसकी जिम्मेदारी संबन्धित कोचिंग संचालक की होगी। अतिरिक्त जिला कलक्टर दक्षिण शंकरलाल सैनी ने भी सभी कोचिंग संचालकों को गाइड लाइन की जानकारी दी। बैठक में कोचिंग सेंटर संचालकों ने जिला कलक्टर की बात का समर्थन करते हुए जिला प्रशासन का पूरा सहयोग करने का आश्वासन दिया।


Warning to coaching center operators, follow the Covid protocol, otherwise it will be strictly

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *