WhatsApp Image 2020 11 25 at 7.08.32 PM 3 scaled

जयपुर शहर की प्राचीन हवेलियों को तोड़कर विरासत को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ शुरू हुआ बॉयकॉट अभियान

जयपुर

जयपुर। शहर की प्राचीन हवेलियों को तोड़कर कॉम्पलेक्स के रूप में बदलने वालों के खिलाफ पहली बार शहर के लोगों ने आवाज उठाई है। पुरोहितजी कटले के ऊपर चल रहे अवैध निर्माण के खिलाफ आज लोगों ने सेाश्यल मीडिया पर बॉयकॉट अभियान चलाया, जिसे भारी समर्थन मिला है।

जौहरी बाजार निवासी और पूर्व पार्षद विकास कोठारी ने इस अभिशन की शुरूआत की है। उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर क्लियर न्यूज की ओर से बुधवार चलाई गई खबर पर लिखा कि ‘जयपुर के एक साड़ी व्यवसायी द्वारा हमारे शहर की विरासत से छेड़छाड़ कर उसके मूल स्वरूप को बिगाड़ा जा रहा है। हम आम नागरिक और कुछ नहीं कर सकते, लेकिन एक अभियान चला सकते हैं, जो जयपुर शहर का नहीं, जयपुर शहर की जनता उसकी नहीं। शहर की जनता को विरासत से खिलवाड़ करने वाले प्रतिष्ठित व्यवसायी का पूरी तरह से बहिष्कार करना चाहिए और उसे सबक सिखाना चाहिए, ताकि यह अभियान उन लोगों के लिए नजीर बन जाए, तो हमेशा विरासत से खिलवाड़ करने की ताक में रहते हैं। ‘

boycott campaign

यह अभियान गुरुवार को पूरे शहर में सोश्यल मीडिया पर छाया रहा। लोगों ने कोठारी के फेसबुक पेज को लाइक कर इस अभियान को अपना समर्थन दिया। उल्लेखनीय है कि क्लियर न्यूज ने बुधवार को ‘कॉम्पलेक्स बनाने के लिए भरे बाजार टूट रहा विश्व विरासत शहर जयपुर’ खबर प्रकाशित कर बताया था कि मेन जौहरी बाजार में पुरोहितजी कटले के दरवाजे पर रूपलक्ष्मी साड़ी की ओर से बड़े-बड़े फ्लेक्स लगाकर उसकी आड़ में पुरानी हवेली में कॉमर्शियल निर्माण किया जा रहा है।

विरासत से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

जयपुर नगर निगम हैरिटेज की महापौर मुनेश गुर्जर ने जौहरी बाजार में अवैध निर्माण पर कहा है कि शहर में पुरानी हवेलियों को तोड़कर कॉम्पलेक्स बनाने के मामलों पर नगर निगम पूरी नजर रख रहा है। निगम की ओर से अवैध निर्माणकर्ताओं को नोटिस दिए जाने की कार्रवाई शुरू हो गई है और जल्द ही इनके खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएंगे। इसके लिए अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं।

1 thought on “जयपुर शहर की प्राचीन हवेलियों को तोड़कर विरासत को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ शुरू हुआ बॉयकॉट अभियान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *