Farmer movement continues, Agriculture minister Narendra Singh Tomar wrote 8-page letter to farmers to clear doubts

किसान आंदोलन जारी, संदेह दूर करने को कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को लिखी 8 पेज की चिट्ठी

कृषि

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रवेश की सीमाओं पर किसान नए कृषि कानूनों को रद्द किये जाने की मांग को लेकर धरना दे रहे हैं। गुरुवार 17 दिसम्बरको 22 वें दिन भी किसानों का आंदोलन जारी रहा। हालांकि सरकार की ओर से मान-मनौव्वल जारी है लेकिन किसान अपनी मांग से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। इस बीच गुरुवार 17 दिसम्बर को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों के नाम एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने लिखा है कि कुछ किसान संगठनों में कृषि सुधारों को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा कर दी गई है।

Tomar
केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को समझाने के लिए 8 पन्नों की चिट्ठी लिखी।

पीएम मोदी ने भी किया ट्वीट

तोमर के पत्र के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट के जरिए कहा, ‘कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर जी ने किसान भाई-बहनों को पत्र लिखकर अपनी भावनाएं प्रकट की हैं, एक विनम्र संवाद करने का प्रयास किया है। सभी अन्नदाताओं से मेरा आग्रह है कि वे इसे जरूर पढ़ें। देशवासियों से भी आग्रह है कि वे इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं।’

यह है चिट्ठी का मजमून

उल्लेखनीय है कि तोमर ने किसान भाइयों और बहनों को संबोधित करके हुए 8 पन्नों की चिट्ठी लिखी है। उन्होंने इस पत्र में लिखा है कि वे पिठले कई दिनों से किसानों के संपर्क में हैं और कई राज्यों के किसान संगठनों के साथ उनकी बातचीत भी हुई है। उन्होंने लिखा है कि इन किसान संगठनों ने कृषि सुधारों का स्वागत किया है और वे इनसे बहुत  खुश भी हैं। लेकिन, दूसरा पक्ष यह भी है कि कुछ किसान संगठनों में इन सुधारों को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा कर दी गई है।

तोमर ने लिखा है कि देश का कृषि मंत्री होते हुए उनका दायित्व है कि वे हर किसान का भ्रम दूर करें और हर किसान की चिंता दूर करें। अपनी इन्हीं बातों को आगे बढ़ाते उन्होंने इस चिट्ठी में कृषि कानूनों को लेकर उत्पन्न संदेह की स्थिति दूर करने का प्रयास किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *