Randeep Surjewala

कल सुबह फिर विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को भी बुलाया

राजनीति जयपुर

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस विधायक दल की कल सुबह 10 बजे फिर से बैठक आयोजित होगी। इस बैठक में फिर से सचिन पायलट और उनके साथ के विधायकों को भी बुलाया गया है।

सोमवार रात दिल्ली रोड स्थित होटल में विधायक दल की बैठक के बाद रात नौ बजे कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी। सुरजेवाला ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को कोई खतरा नहीं है। 109 विधायकों ने लिखित में सरकार को समर्थन दिया है।

सुरजेवाला ने कहा कि जो विधायक नाराज हैं, उनके लिए सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के दरवाजे हमेशा खुले हैं। वह आए और अपनी समस्याओं पर चर्चा करें। इस बीच कहा जा रहा है कि कल कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा जयपुर आ सकती है। वह यहां होटल में रुके विधायकों और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से वार्ता कर सकती है।

जानकारों का कहना है कि 109 विधायकों के दावे के बावजूद गहलोत खेमे में भारी गहमागहमी है। यदि यह संख्या सही होती तो फिर सचिन पायलट गुट की वापसी का इतना इंतजार नहीं होता। कुछ सूत्र कह रहे हैं कि होटल में 76 विधायक ही मौजूद है।

दिनभर के घटनाक्रम के बाद शाम को भारतीय ट्राइबल पार्टी ने भी गहलोत खेमे में खलबली मचा दी। बीटीपी की ओर से कहा गया है कि उनकी पार्टी कांग्रेस या भाजपा किसी का भी समर्थन नहीं करेंगी। बीटीपी के विधानसभा में दो विधायक हैं।

तेज हुए बगावती सुर

शाम होते-होते बागी खेमे के सुर बगावती होने लगे। पायलट खेमे के विधायक दीपेंद्र सिंह ने एक चैनल को बयान दिया कि उनका खेमा फ्लोर टेस्ट की मांग करता है। यदि फ्लोर टेस्ट होता है तो कुछ अन्य विधायक भी गहलोत खेमे से निकलकर उनके साथ आ सकते हैं। दूसरी ओर नागौर से विधायक मुकेश भाकर ने एक ट्वीट करके स्पस्ट कहा है कि उन्हें गहलोत का नेतृत्व कतई मंजूर नहीं है। कांग्रेस का मतलब गहलोत नहीं होता है।

भाजपा की पूरी नजर

आज हुए घटनाक्रम और कांग्रेस की गुटबाजी पर भाजपा के नेता पूरी नजर रख रहे हैं। बताया जा रहा है कि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया इस मामले को लेकर लगातार केंद्रीय नेतृत्व से संपर्क में है और पल-पल की जानकारी साझा की जा रही है।