Pegasus case ki janch Supreme Court Judge karein: Pilot

पेगासस (Pegasus) प्रकरण की जांच सुप्रीम कोर्ट( Supreme Court) जज करें : पायलट

जयपुर


जयपुर। कांगेस विधायक सचिन पायलट ने बुधवार को अपने सरकारी आवास पर प्रेसवार्ता कर पेगासस (Pegasus) प्रकरण पर केन्द्र सरकार को आड़े हाथों लिया। पायलट ने कहा कि हैकिंग अवैध है, कंपनी ने तथ्यात्मक आंकड़े दिए है इसलिए पेगासस प्रकरण केन्द्र सरकार का अब तक की सबसे बड़ी गड़बड़ी है।

पायलट ने मांग की कि इस प्रकरण की जांच सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court) के जज करें क्योंकि केन्द्र सरकार यदि जांच करेगी तो निष्पक्ष नहीं होगी। सचिन पायलट ने इस दौरान कहा कि केन्द्र सरकार के जिस मंत्री ने जासूसी प्रकरण का लोकसभा में खंडन किया बाद में पता चलता है कि मोदी सरकार अपने ही उस मंत्री की भी जासूसी करवा रही थी।

पायलट ने कहा कि यह प्रकरण गंभीर मामला है जिसमें केन्द्र सरकार के इशारे पर एक विदेश कंपनी ने देश के राजनेताओं, पत्रकारों, जजों व अफसरों की जासूसी की है। यह संवैधानिक परंपराओं का हनन है, कांग्रेस इस के खिलाफ जनआंदोलन चलाएगी। केन्द्र सरकार की इस प्रकरण में चुप्पी बडे सवाल खड़ा करती है। पायलट ने मांग की कि जिस कंपनी ने जासूसी की उसको पेमेंट कहां से हुआ, इसकी जांच होते ही पूरे राज बाहर आ जाऐंगे। विपक्ष को दबाने के लिए केन्द्र सरकार जासूसी करवा रही है, जिसके नतीजे गंभीर होंगे।

ऑक्सीजन के अभाव में मौतों के केन्द्र के इंकार पर पायलट ने कहा कि यह बात गले नहीं उतर रही है, कैसा हाहाकार मचा था, केन्द्र जिम्मेदारी से बच नहीं सकती है। इस तरह के जवाब देना उन मौतों का मजाक उउ़ाना जैसा है। पायलट ने पेट्रोल-डीजल, गैस व अन्य खाद्य उत्पादों की महंगाई पर भी केन्द्र सरकार पर निशाना साधा है। तीन दिन से दिल्ली दौरे के बाद पायलट बुधवार को जयपुर पहुंचे थे। उन्होनें अपने समर्थक कई विधायकों से मुलाकात भी की।

पंजाब का मामला सुलझ जाने व राजस्थान विवाद के सवाल पर पायलट ने कहा कि हमने हाईकमान को गहराई से सब बातें बता दी है। अपना पक्ष रख दिया है अब पार्टी जो भी फैसला लेगी वह हमें स्वीकार होगा। जल्द ही एआईसीसी (AICC) राजस्थान प्रकरण में निर्णय लेने वाली है। कांग्रेस की सदियों से परंपरा रही है कि वह पार्टी कार्यकर्ताओं को हमेशा सम्मान करती आई है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *